CTET And TET Paper 1 & Paper 2

CTET And TET: प्राइमरी शिक्षक के लिए रिजर्व कैटेगरी से संबंधित उम्मीदवारों के लिए आवश्यक है कि कक्षा 12 की परीक्षा 45 प्रतिशत अंकों के साथ पास की हो और दो वर्षीय डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजुकेशन (D.EL.ED) कोर्स पूरा किया हो।

TET और CTET दोनों ही एक कॉमन टेस्ट हैं जिसके माध्यम से अलग-अलग सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति की जाती है। जहां सीटीईटी (CTET) का मतलब है सेंट्रल टीचर्स एलिजिबिलिटी टेस्ट जबकि टीईटी (TET) का मतलब है टीचर्स एलिजिबिलिटी टेस्ट। हालांकि दोनों परीक्षाएं शिक्षक भर्ती के लिए ही की जाती है लेकिन दोनों में खासा अंतर है जिसके विषय में हम अक्सर कंफ्यूज हो जाते हैं। आइए इस लेख के माध्यम से हम टीईटी और सीटीईटी के बीच अंतर (Difference Between CTET And TET) को विस्तार से समझने का प्रयास करते हैं।

सीटीईटी (CTET) केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) द्वारा साल में दो बार केंद्रीय स्तर पर आयोजित होने वाला एक एलिजिबिलिटी टेस्ट है। उम्मीदवार जो केंद्रीय विद्यालय संगठन (KVS) और नवोदय विद्यालय समिति (NVS) जैसे केंद्र सरकार के स्कूलों में प्राइमरी और एलिमेंट्री शिक्षकों के रूप में योग्यता प्राप्त करना चाहते हैं, वे सीटीईटी परीक्षा के लिए उपस्थित होते हैं साथ ही सीईटीई उम्मीदवार राज्य सरकार की शिक्षक भर्ती के लिए भी आवेदन कर सकते हैं।

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने सीबीएसई को सीटीईटी परीक्षा आयोजित करने की जिम्मेदारी सौंपी है। संपूर्ण CTET चयन प्रक्रिया खुली, निष्पक्ष और पारदर्शी है। CTET परीक्षा में पास होने के लिए उम्मीदवारों को ईमानदारी से परीक्षा की तैयारी करनी होगी।

टीईटी (TET) परीक्षा भी सीटीईटी के अनुरूप है लेकिन अंतर यह है कि ये परीक्षा राज्य स्तर पर आयोजित की जाती है। कई राज्य सरकार हर साल टीईटी परीक्षा आयोजित करती हैं जैसे यूपीटीईटी (UPTET), आरईईटी (REET), बिहार एसटीईटी (Bihar STET), पीएसटीईटी (PSTET), एमपी टीईटी (MPTET) , केटीईटी (KTET), टीएनटीईटी आदि। टीईटी परीक्षा पास करने के बाद, उम्मीदवार केवल संबंधित राज्य सरकारों द्वारा संचालित स्कूलों में शिक्षण कार्य के लिए योग्य हो जाते हैं।

टीईटी के उम्मीदवार परीक्षा पास करने के बाद केवीएस और एनवीएस जैसे केंद्रीय विद्यालयों में शिक्षण कार्य के लिए आवेदन करने के योग्य नहीं होते। उदाहरण के लिए, यदि कोई उम्मीदवार यूपीटीईटी परीक्षा पास करता है, तो वह केवल उत्तर प्रदेश के स्कूलों में शिक्षण कार्य के लिए योग्य हो जाएगा।

टीईटी और सीटीईटी के लिए योग्यता (Educational Qualification)

प्राथमिक शिक्षक के लिए शिक्षा योग्यता- उम्मीदवार को 50 प्रतिशत अंकों के साथ कक्षा 12 की परीक्षा पास होना चाहिए और प्रारंभिक शिक्षा में दो वर्षीय डिप्लोमा (D.EL.ED) कार्यक्रम पूरा किया होना चाहिए या प्रारंभिक शिक्षा कार्यक्रम में चार वर्षीय ग्रेजुएशन (B.EL.ED)। रिजर्व कैटेगरी से संबंधित उम्मीदवारों के लिए आवश्यक है कि कक्षा 12 की परीक्षा 45 प्रतिशत अंकों के साथ पास की हो और दो वर्षीय डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजुकेशन (D.EL.ED) कोर्स पूरा किया हो।

एलिमेंट्री शिक्षक के लिए शिक्षा योग्यता-उम्मीदवार को विज्ञान / मानविकी / वाणिज्य में 50 प्रतिशत अंकों के साथ ग्रेजुएशन पूरा किया होना चाहिए और दो वर्षीय (D.EL.ED) या शिक्षा में एक वर्षीय ग्रेजुएशन (B.ED) कार्यक्रम पूरा किया हो। रिजर्व कैटेगरी के उम्मीदवारों को एक विषय में ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करनी चाहिए और कुल मिलाकर 45 प्रतिशत अंक हासिल करना चाहिए। साथ ही एक साल का बी.एड कार्यक्रम पूरा करना चाहिए। कुल मिलाकर 50 प्रतिशत अंकों के साथ कक्षा 12 की परीक्षा उत्तीर्ण की हो और चार वर्षीय बी.ई.एल.एड कार्यक्रम पूरा किया हो।

सीटीईटी और टीईटी के बाद करियर (Career After CTET or TET)

जनरल कैटेगरी के उम्मीदवारों के लिए टीईटी और सीटीईटी क्वालीफाइंग अंक 60 प्रतिशत हैं। एससी, एसटी, ओबीसी और पीडब्ल्यूडी जैसी रिजर्व कैटेगरी के लिए क्वालीफाइंग अंकों में 5 से 10 प्रतिशत की छूट दी गई है। सफल होने वाले उम्मीदवार केंद्र सरकार द्वारा संचालित स्कूलों या राज्य द्वारा संचालित स्कूलों में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं।

CTET And TET Paper 1 & Paper 2 Test Paper

CTET/TET Paper-I: Previous Papers & Practice Test Papers (Solved) for Class I-V Teachers

CTET/TETs Paper-II Mathematics & Science: Previous Papers & Practice Test Papers (Solved) For Class VI-VIII

Leave a Reply